भगवान गणेश के जपे हमेशा ये मन्त्र होंगी सारी मनोकामना पूरी

भगवान गणेश के जपे हमेशा ये मन्त्र होंगी सारी मनोकामना पूरी

भगवान गणेश को लामोदर के नाम से भी जाना जाता हैं. आज हम आपको ऐसे मन्त्रों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनको पढ़ने से आपकी सारी मनोकामना पूर्ण हो जाएगी और भगवान गणेश आपको मनचाहा फल देंगे। नीलवर्ण उच्छिष्ट गणपति का रूप तांत्रिक क्रिया से संबंधित है। हिन्दू धर्म में कहा गया है कि शांति और पुष्टि के लिए श्वेत वर्ण गणपति की आराधना करना चाहिए व शत्रु के नाश व विघ्नों को रोकने के लिए हरिद्रा गणपति की आराधना की जाती है।

गणपति जी का बीज मंत्र 'गं' है।

1.इनसे युक्त मंत्र- 'ॐ गं गणपतये नमः' का जप करने से सभी कामनाओं की पूर्ति होती है।

2.षडाक्षर मंत्र का जप आर्थिक प्रगति व समृद्धिप्रदायक है- " उच्छिष्ट गणपति का मंत्र " 

3.आलस्य, निराशा, कलह, विघ्न दूर करने के लिए विघ्नराज रूप की आराधना का यह मंत्र जपें - " गं क्षिप्रप्रसादनाय नम: " 

4.विघ्न को दूर करके धन व आत्मबल की प्राप्ति के लिए हेरम्ब गणपति का मंत्र जपें - " 'ॐ गं नमः " 

5.रोजगार की प्राप्ति व आर्थिक वृद्धि के लिए लक्ष्मी विनायक मंत्र का जप करें- " ॐ श्रीं सौम्याय सौभाग्याय गं गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानाय स्वाहा " 

6.विवाह में आने वाले दोषों को दूर करने वालों को त्रैलोक्य मोहन गणेश मंत्र का जप करने से शीघ्र विवाह व अनुकूल जीवनसाथी की प्राप्ति होती है- " ॐ वक्रतुण्डैक दंष्ट्राय क्लीं ह्रीं श्रीं गं गणपते वर वरद सर्वजनं मे वशमानाय स्वाहा "