जानिए बालाजी मंदिर से जुडी कथा

जानिए बालाजी मंदिर से जुडी कथा

बालाजी मंदिर के बारे में सब जानते हैं पर उसके पीछे क्या कथा है वो किसी को नहीं मालूम हैं. आज हम आपको बालाजी से जुडी कथा बता रहे है कि आखिर क्यों यहां पर हनुमान जी के बाल रूप की पूजा होती हैं. कथा के अनुसार राजस्थान के एक गांव में हनुमान जी का एक परम भक्त रहता था। वह हर रोज अपने हाथों से गाय का दूध निकालता तथा हनुमान जी को चढ़ाया करता। दिन बीतने के साथ-साथ वह बूढ़ा होता चला गया तथा उसका स्वास्थ्य खराब रहने लगा। 
 
स्वास्थ्य खराब होने के कारण भक्त हनुमान जी को कई दिनों से दूध चढ़ाने नहीं जा पा रहा था। उसके बाद हनुमान जी स्वयं ही अपने भक्त के घर आते थे तथा उसकी गाय का दूध पी लेते थे। बहुत दिनों से भक्त परेशान था, क्योंकि उसकी गाय दूध नहीं दे रही थी। एक दिन उसने गाय पर पूरे दिन छिप कर नजर रखी और जब हनुमान जी बाल रूप धारण करके गाय का दूध पीने आए तो भक्त ने उन्हें शैतान बच्चा समझकर उन पर डंडे से वार कर दिया। इसके बाद 

हनुमान जी ने अपने भक्त को क्षमा करते हुए अपने दर्शन दिए। ऐसा माना जाता है कि मूर्ति पर चोट का आज भी निशान है।