जाने दक्षिण कश्मीर के इस खूबसूरत मार्तंड सूर्य मंदिर के बारे में

जाने दक्षिण कश्मीर के इस खूबसूरत मार्तंड सूर्य मंदिर के बारे में

कश्मीर को धरती का स्वर्ग कहा जाता हैं.यह अपने पर्यटक स्थल के लिए जाना जाता हैं. इसके पर्यटन स्थल अपनी खूबसूरती के अलावा बेहद खूबसूरत मंदिर के लिए जाना जाता हैं. इन्हीं खूबसूरत मंदिरों में से एक हैं दक्षिण कश्मीर में स्थित मार्तंड सूर्य मंदिर. अगर आप पहलगाम और अनंतनाग घूमने जाते है तो आपको इस मंदिर को जरूर घूमने जाना चाहिए। 

मार्तंड सूर्य मंदिर दक्षिण कश्मीर में हैं लेकिन आज इसकी हालत जर्जर हो चुकी हैं. भारत का ये मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए जाना जाता हैं.ये अपनी खूबसूरती के लिए भारत के लिए ही नहीं बल्कि विश्व में भी जाना जाता हैं. भारत का ये खूबसूरत मंदिर मध्यकाल युग के 7 वीं से 8 वीं शताब्दी के दौरान सूर्य राजवंश के राजा ललितादित्य ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था. 

कहां स्थित है मार्तण्ड सूर्य मंदिर?

मार्तण्ड सूर्य मंदिर दक्षिण कश्मीर भाग में स्थित छोटे से शहर अनंतनाग से 60 किमी की दूरी पर स्थित एक पठार के ऊपर स्थित है। इसकी गणना ललितादित्य के प्रमुख कार्यों में की जाती है। इसमें 84 स्तंभ हैं जो नियमित अंतराल पर रखे गए हैं।

मार्तंड सूर्य मंदिर मार्तण्ड सूर्य मंदिर का आंगन 220 फुट x 142 फुट है। यह मंदिर 60 फुट लम्बा और 38 फुट चौड़ा था। इसके चतुर्दिक लगभग 80 प्रकोष्ठों के अवशेष वर्तमान में हैं। इस मंदिर के पूर्वी किनारे पर मुख्य प्रवेश द्वार का मंडप है। द्वारमंडप तथा मंदिर के स्तम्भों की वास्तु-शैली रोम की डोरिक शैली से कुछ अंशों में मिलती-जुलती है

हतप्रभ करती है मंदिर की वास्तुकला यह मंदिर अपनी खूबसूरत वास्तुकला के चलते पूरे देश में प्रसिद्ध है, यह मंदिर अपनी हिंदू राजाओं की स्थापत्य कला का बेहतरीन नमूना है। इस मंदिर को बनाने के लिए चूने के पत्थर की चौकोर ईंटों का उपयोग किया गया है जो उस समय के कलाकारों की कुशलता को दर्शाता है।

मंदिर कैसे पहुंचा जाएं 

कैसे पहुंचे श्रीनगर पहुँचने के बाद आप कैब के जरिये इस खूबसूरत मार्तंड सूर्य मंदिर पहुंच सकते हैं, श्रीनगर से इस मंदिर तक पहुँचने में आपको करीबन एक से डेढ़ घंटे का समय लगेगा।