श्री गणेश मन्त्र

श्री गणेश मन्त्र

इस मंत्र के द्वारा भगवान गणेश को दीप दर्शन कराना चाहिए.

साज्यं च वर्तिसंयुक्तं वह्निना योजितं मया ।
दीपं गृहाण देवेश त्रैलोक्यतिमिरापहम् ।
भक्त्या दीपं प्रयच्छामि देवाय परमात्मने ।
त्राहि मां निरयाद् घोरद्दीपज्योत ॥

सिन्दूर अर्पण करने का श्री गणेश पूजा मंत्र 

भगवान गणपति की पूजा के मध्य, इस मंत्र को पढ़ते हुए उन्हें सिन्दूर अर्पण करना चाहिए.

सिन्दूरं शोभनं रक्तं सौभाग्यं सुखवर्धनम् ।
शुभदं कामदं चैव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम् ॥

नैवेद्य समर्पण करने का श्री गणेश पूजा मंत्र 

इस मंत्र के द्वारा भगवान गणेश को नैवेद्य समर्पण करना चाहिए

नैवेद्यं गृह्यतां देव भक्तिं मे ह्यचलां कुरू ।
ईप्सितं मे वरं देहि परत्र च परां गरतिम् ॥
शर्कराखण्डखाद्यानि दधिक्षीरघृतानि च ।
आहारं भक्ष्यभोज्यं च नैवेद ॥

पुष्पमाला समर्पण करने का श्री गणेश पूजा मंत्र 

भगवान गणेश की पूजा करते समय, इस मंत्र को पढ़ते हुए उन्हें पुष्पमाला समर्पण करना चाहिए

माल्यादीनि सुगन्धीनि मालत्यादीनि वै प्रभो ।
मयाहृतानि पुष्पाणि गृह्यन्तां पूजनाय भोः ॥

यज्ञोपवीत समर्पण करने का श्री गणेश पूजा मंत्र 

गणपति पूजन के मध्य, इस मंत्र के द्वारा भगवान गणेश को यज्ञोपवीत समर्पण करना चाहिए

नवभिस्तन्तुभिर्युक्तं त्रिगुणं देवतामयम् ।
उपवीतं मया दत्तं गृहाण परमेश्वर ॥
आसन समर्पण करने का श्री गणेश पूजा मंत्र || 

पूजा के मध्य, इस मंत्र के द्वारा भगवान गजानन श्री गणेश को आसन समर्पण करना चाहिए

निषु सीड गणपते गणेषु त्वामाहुर्विप्रतमं कवीनाम् ।
न ऋते त्वत् क्रियते किंचनारे महामर्कं मघवन्चित्रमर्च ॥

भगवान् भालचंद्र को प्रणाम करने का मंत्र 

गणेश पूजा के उपरान्त, इस मंत्र के द्वारा भगवान् भालचंद्र को प्रणाम करना चाहिए

विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धिताय ।
नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते ॥

आह्वान करने का श्री गणेश पूजा मंत्र || 

विघ्नहर्ता भगवान गणेश की पूजा करते समय, इस मंत्र के द्वारा उनका आह्वान करना चाहिए

गणानां त्वा गणपतिं हवामहे प्रियाणां त्वा प्रियपतिं हवामहे ।
निधीनां त्वा निधिपतिं हवामहे वसो मम आहमजानि गर्भधमा त्वमजासि गर्भधम् ॥

स्मरण करने का श्री गणेश पूजा मंत्र 

इस मंत्र के द्वारा प्रातः काल, भगवान श्री गणेश जी का स्मरण करना चाहिए

प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमानमिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम् ।
तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयोः शिवाय ॥

ध्यान करने का श्री गणेश पूजा मंत्र 

गणपति पूजन के समय, इस मंत्र से भगवान गणेश जी का ध्यान करना चाहिए

खर्व स्थूलतनुं गजेन्द्रवदनं लम्बोदरं सुन्दरं प्रस्यन्दन्मदगन्धलुब्धमधुपव्यालोलगण्डस्थलम ।
दंताघातविदारितारिरूधिरैः सिन्दूरशोभाकरं वन्दे शलसुतासुतं गणपतिं सिद्धिप्रदं कामदम् ॥