customize_post_detail_page

https://www.prabhubhakti.com/sawan-somvar-vart-puja-vidhi
सावन सोमवार व्रत विधि और पूजा विधि 

सावन सोमवार व्रत विधि और पूजा विधि 

सावन सोमवार व्रत विधि
सावन सोमवार व्रत विधि और पूजा विधि 

भगवान शिव की उपासना के लिए सोमवार, प्रदोष, शिवरात्रि और सावन आदि का समय शुभ माना जाता है। 
मान्यता है कि सावन (हिन्दू माह श्रावण) के महीने में भगवान शिव व सोमवार व्रत का महत्त्व और भी बढ़ जाता है।
 सावन के महीने में शिव भक्तों को प्रत्येक सोमवार (Sawan Somvar Vrat) को केवल रात में ही भोजन करना चाहिए और शिव जी की उपासना करनी चाहिए। 
 श्रावण सोमवार व्रत की विधि अन्य सोमवार व्रत की तरह ही होती है।


सावन सोमवार व्रत विधि (Sawan Somvar Vrat Vidhi in Hindi)

स्कंदपुराण के अनुसार भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सावन सोमवार के दिन एक समय भोजन करने का प्रण लेना चाहिए।
 भगवान भोलेनाथ के साथ पार्वती जी की पुष्प, धूप, दीप और जल से पूजा करनी चाहिए। 
 इसके बाद भगवान शिव को तरह-तरह के नैवेद्य अर्पित करने चाहिए जैसे दूध, जल, कंद मूल आदि। 
 सावन के प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव को जल अवश्य अर्पित करना चाहिए।

रात्रि के समय जमीन पर सोना चाहिए। इस तरह से सावन के प्रथम सोमवार से शुरु करके कुल नौ या सोलह सोमवार इस व्रत का पालन करना चाहिए। 
नौवें या सोलहवें सोमवार को व्रत का उद्यापन करना चाहिए। 
अगर नौ या सोलह सोमवार व्रत करना संभव ना हो तो केवल सावन के चार सोमवार भी व्रत किए जा सकते हैं।


 विशेष: अपने भोले स्वभाव के कारण भगवान शिव का एक नाम भोलेनाथ भी है।
 इसी कारण भगवान शिवजी से जुड़े व्रतों में किसी कड़े नियम का वर्णन पुराणों में नहीं है। 
 साथ ही शास्त्रों के अनुसार सावन सोमवार व्रत में तीन पहर तक उपवास रखने के बाद एक समय भोजन करना चाहिए।
 सिर्फ सावन सोमवार ही नहीं अन्य शिवजी से जुड़े व्रतों में भी सूर्योदय के बाद तीन पहर (9 घंटे) तक उपवास रखना चाहिए। 
 साथ ही भगवान शिव की प्रिय वस्तुएं जैसे भांग- धतुरा आदि उनकी पूजा में अवश्य रखने का प्रयत्न करना चाहिए।

 

सावन सोमवार व्रत (Sawan Somvar Vrat)

साल 2019 में सावन सोमवार के व्रत 17 जुलाई से शुरु होंगे और 15 अगस्त को सावन का महीना समाप्त हो जाएगा। ​