राम उसका रावण भी उसका, जीवन उसका मरण भी उसका,

राम उसका रावण भी उसका, जीवन उसका मरण भी उसका,

राम उसका रावण भी उसका, जीवन उसका मरण भी उसका,