” माना दुनिया बुरी है सब जगह धोखा है किंतु हम तो अच्छे बने हमें  किसने रोका है।”

” माना दुनिया बुरी है सब जगह धोखा है किंतु हम तो अच्छे बने हमें किसने रोका है।”

” माना दुनिया बुरी है सब जगह धोखा है किंतु हम तो अच्छे बने हमें  किसने रोका है।”