जो दौड़ दौड़ कर भी नहीं मिलता “वही संसार है” जो बिना दौड़े मिल जाता है “वही परमात्मा हैं”

जो दौड़ दौड़ कर भी नहीं मिलता “वही संसार है” जो बिना दौड़े मिल जाता है “वही परमात्मा हैं”

जो दौड़ दौड़ कर भी नहीं मिलता “वही संसार है” जो बिना दौड़े मिल जाता है “वही परमात्मा हैं”