नवरात्र 2020: 178 साल बाद दुर्लभ योग, बीज मंत्र के जाप से दूर होंगे रोग

नवरात्र 2020: 178 साल बाद दुर्लभ योग, बीज मंत्र के जाप से दूर होंगे रोग

चैत्र नवरात्र बुधवार से शुरु हो रहे हैं। इस बार मां नाव में सवार होकर आएंगी। दो अप्रैल को हाथी पर विदा होंगी। बुधवार को प्रथम दिन घट स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 5:55 बजे से शाम चार बजे तक रहेगा। आगरा के धर्माचार्यों ने बताया कि 178 साल बाद दुर्लभ योग बन रहे हैं। मां की पूजा अर्चना के दौरान बीज मंत्र का जाप करें तो रोगों से मुक्ति मिलेगी। 

चैत्र नवरात्रि में नौ दिन तक हर रोज साधक दुर्गे मां की पूजा एवं 251 बार बीज मंत्र ऊँ दुं दुर्गाय नम: के साथ मां दुर्गा की पूजा करें। पूजा स्थल पर दीप जलाएं। रोगों से मुक्ति मिलेगी।

राशिवार चढ़ाएं फूल, प्रसन्न होंगी देवी

मेष : गुड़हल, गुलाब, लाल कनेर
वृषभ : गुड़हल, श्वेत कनेर, बेला
मिथुन : गुड़हल, पीली कनेर, गेंदा
कर्क  : गुड़हल, चमेली, गेंदा
सिंह :  गुड़हल , गुलाब , कनेर
कन्या : गुड़हल, गुलाब, गेंदा
तुला : गुड़हल, बेला, चमेली
वृश्चिक : कोई भी लाल, पीले गुलाबी पुष्प
धनु  : गुड़हल, गेंदा
मकर: गुड़हल, गुलाब , गेंदा,
कुंभ : गुड़हल, बेला, चमेली
मीन : गेंदा, गुड़हल , गुलाब