जानिए कैसे बने एक क्षत्रिय राजा से महर्षि विश्वामित्र