ईश्वर के दो निवास स्थान हैं – एक बैकुंठ में और दूसरा नम्र और कृतज्ञ हृदय में।

ईश्वर के दो निवास स्थान हैं – एक बैकुंठ में और दूसरा नम्र और कृतज्ञ हृदय में।

ईश्वर के दो निवास स्थान हैं – एक बैकुंठ में और दूसरा नम्र और कृतज्ञ हृदय में।