क्या आपको पता हैं भगवान कृष्ण के है ये अनजान तथ्य ?

क्या आपको पता हैं भगवान कृष्ण के है ये अनजान तथ्य ?

1. श्रीकृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था.वह मात देवकी और वदुसेव कि आठवी संतान थे. जिन्हें वसुदेव रात में कंस के कारावास मथुरा से गोकुल नन्द के यहाँ छोड़ आये थे. 

2. श्रीकृष्ण भगवान अपने गुरु ऋषि संदिपानी को गुरुदक्षिना के रूप में उनके मृत्य बेटे को जीवन दान दिया था. 

3. श्रीकृष्ण ने बचपन में पुतना , त्रिनिवत्र जैसे राक्षसों को 3 वर्ष से भी कम आयु में मृत्यु के घाट उतार दिया जो कंस ने कृष्ण का वध करने के लिए भेजे थे. 

4. कंस अपने पूर्व जन्म में कालनेमी था , जिसका वध श्रीविष्णु ने किया था | देवकी के पहले छः पुत्र पिछले जनम में कालनेमी पुत्र थे | हृन्याकश्याप ने उन्हें श्राप दिया था , कि उनकी मर्त्यु उनके पिता के हाथो से होगी | इसलिए कंस ने देवकी के पहले छः बच्चों का वध कर दिया था. 

5. गांधारी ने श्रीकृष्ण को श्राप दिया था | लेकिन आप जानते हैं कि इसके दो कारण थे.श्रीकृष्ण ने अपने पूर्व अवतार श्री राम के रूप में बाली का वध किया था.तब उन्होंने बाली कि पत्नी तारा को वचन दिया था , कि बाली अपने अगले जन्म में अपनी मृत्यु का बदला लेने में सफल होगा | बाली ने जरा शिकारी के रूप में जन्म लिया और वह भगवान श्रीकृष्ण कि मृत्यु का कारण बना था. 

6. श्रीकृष्ण की 16,108 पत्नीयां थी.जिनमे से केवल 8 उनकी राजसी पत्नीयां थी , जो असठ्भार्या या पटरानी के नाम से जानी जाती थी | कृष्ण की पटरानीयो के नाम रुक्मणि , सत्यभामा , जाम्बवती , नाग्नजिती , कालिंदी , मित्रविन्दा , भद्रा , लक्ष्मणा थे.रुक्मणि को माता लक्ष्मी का अवतार माना जाता है , जो यश और वैभव की देवी हैं.रुक्मणि ने भगवान श्रीकृष्ण को पत्र के द्वारा शादी का प्रस्ताव भेजा था और स्वयं का अपहरण करने का निवेदन किया था | इसलिए कृष्ण ने रुक्मणि का अपहरण किया था.

7. श्रीकृष्ण की सभी पत्नीयां में से सत्यभामा को बहुत अभिमान था , और वह रुक्मणि से ईष्या करती थी. तब उनके बिच तुलादान की स्पर्दा हुई. सत्यभामा ने अपनी पूरी संपत्ति को तराजू में रख दिया था.फिर भी श्रीकृष्ण पलड़ा हिला भी नहीं था , किन्तु रुक्मणि ने प्रेम से तुलसी का एक पत्ता रखा तो पलड़ा पूरा ऊपर हो गया था जिसपर भगवान बेठे थे. 

8. श्रीकृष्ण को आठ पुत्र उनकी आठ पटरानियो से हुए | बाकी सभी रानियों के दस -दस पुत्र हुए | प्रदयुमन रुक्मणि का बेटा था | साम्भा जाम्बवती के पुत्र थे , जिनको ऋषियों के द्वारा श्राप मिला था | साम्भा बाद में पूरे यदू वंश के अंत का कारण बने थे |

9. श्रीकृष्ण ने पुत्र प्राप्त करने के लिए भगवान शिव की तपस्या की , वह भगवान शिव जैसा पुत्र चाहते थे.

10. श्रीकृष्ण की बहन सुभद्रा की माता रोहिणी तथा पिता वसुदेव थे.बलराम सुभद्रा का विवाह दुरुयोधन से करवाना चाहते थे.इसलिए श्रीकृष्ण ने अर्जुन को सुभद्रा का अपहरण करने को बोला था | श्रीकृष्ण ने सुभद्रा को रथ को चलाने की सलाह दी थे , जिससे वास्तव में इसको कोई अपहरण न कहे | बाद में अर्जुन और सुभद्रा की शादी इन्द्रप्रस्थ में हुए थी. 

11. एक्लव्य वास्तव में श्रीकृष्ण का चचेरा भाई था | एक्लव्य देवाश्रवा का पुत्र था जो की वासुदेव के भाई थे | वह जंगल में खो गए थे और निषाद हिरान्याधानू को मिले थे | एक्लव्य अपने पिता देवाश्रावा की रुक्मणि के स्वंवर में रक्षा करते हुए श्रीकृष्ण के हाथो मृत्यु को प्राप्त हो गया | एक्लव्य के गुरुदक्षिना के बलदान भाव को देखकर भगवान कृष्ण ने उसको आशीर्वाद दिया था की अगले जन्म में वह गुरु द्रोण से बदला लेने में सक्षम होगा |

12. श्रीकृष्ण को समजना सबसे कठिन कार्य है.  एक बार कृष्ण ने अर्जुन से युध करना आरम्भ कर दिया था | भगवान शिव ने उनका युद्ध रोक दिया और भगवान श्रीकृष्ण से पूछा की आप क्या कर रहे हैं ? कृष्ण ने सहजता से जवाब दिया की वह अर्जुन की परीक्षा ले रहे हैं. 

13. जब कृष्ण रणभूमि में गीता का ज्ञान दे रहे थे , तब अर्जुन अकेले सुनने वाले नहीं थे | अर्जुन के साथ हनुमान और संजय भी थे | हनुमान अर्जुन के रथ के ऊपर महाभारत के आरम्भ से अंत तक विराजमान थे | संजय को श्री वेदव्यास ने आशीर्वाद के रूप में दिव्या ज्योति प्रदान की थी | जिससे वह महाभारत में घटने वाली घटनाओ का धीतिरास्ट्र को आँखों देखा हाल बता सकें |

14. श्रीकृष्ण का पुत्र प्रद्युमन कामदेव था , जो भगवान शिव ने तपस्या भंग होने पर अपने त्रिनेत्र से भस्म कर दिया था | प्रद्युमन का जन्म लेने के पश्च्यात सम्बरासुर द्वारा अपहरण कर लिया गया था और उसको समुद्र में फेक दिया था | प्रद्युमन को समुद्र के अंदर एक मछली ने ने निगल लिया था | जब सम्बरासुर के रसोई में मछली के पेट से प्रद्युमन जीवित बाहर निकले तो मायावती ने उनकी देखभाल की थे | मायावती देवी रति का अवतार थीं | मायावती ने प्रद्युमन को बताया की कैसे सम्बरासुर ने उसे मारने की कोशिश की थी |

15. पांडव श्रीकृष्ण के सम्बन्धी थे , पांडवो की माता कुंती श्रीकृष्ण के पिता वसुदेव की बहन थी. 

16. श्रीकृष्ण का सबसे प्रभावशाली हथियार उनका सुदर्शन चक्र था | जो प्रमुख रूप से शिशुपाल के वध में स्तामल हुआ तथा महाभारत के युद्ध में सूर्य को छुपाने का कार्य किया थ , जिसके कारण जयद्रथ का अर्जुन ने वध किया था |

17. श्रीकृष्ण से युद्ध करने के लिए जरासंत ने कालयवन नाम के राक्षस को भेजा था | श्रीकृष्ण को पता था की कालयवन का कैसे वध किया जाये इसलिए वह एक घुफा में जाकर पत्थर के पीछे चुप गए | घुफा में मुचकुन्द सोया हुआ था | मुचकुन्द को वरदान था , जिसको भी वह जागने के बाद देखेंगा वो भस्म हो जायेगा | कालयवन जैसे ही घुफा में घुसा मुचकुन्द की नज़र उसपर पड़ी और वह भस्म हो गया |

18. श्रीकृष्ण पहले व्यक्ति थे जिसने कारण को उसके जन्म का सत्य बताया था. श्रीकृष्ण ने कारण को अपने भाइयो से युद्ध न करने की सलाह दी थी , किन्तु कारण ने विनम्रता से उन्हें मना कर दिया और साथ में यह भी कहा की वह इस सत्य को पांडवो को न बताएं। 

19. जब श्रीकृष्ण पांडवो की तरफ से हस्तिनापुर में कोरवों के पास युद्ध को रोकने के लिए शान्ति दूत बनकर गए | वहां दुरुयोधन ने उन्हें बंदी बनाने का प्रयास किया , तब कृष्ण ने अपने वास्तविक रूप में आ गए | जो अभिमानी और घमंडी व्यक्ति थे उनकी आँखें कृष्ण के वास्तविक रूप के तेज से बंद हो गयी | जो सज्जन , दयालु और पुण्यात्मा थे उन्होंने कृष्ण भगवान के वास्तविक रूप के दर्शन किये |

20. श्रीकृष्ण और बलराम ने जरासंथ को 17 बार हराया था.जरासंथ श्रीकृष्ण को अपना परम शत्रु समजता था , इसलिए जरासंथ कृष्ण से युद्ध करने के लिए अवसर देखता था | अपनी प्रजा को युद्ध से बचाने और उनको बेहतर , खुशहाल जिंदगी देने के लिए श्रीकृष्ण मथुरा से अपनी प्रजा को लेकर द्वारिका चले गए. 

21. ऋषि दुर्वासा ने कृष्ण को भी श्राप से अछुता नहीं छोरा था | दुर्वासा ऋषि एक दिन खीर खा रहे थे , श्रीकृष्ण भी वह उपस्थित थे | दुर्वासा ऋषि ने कृष्ण को खीर को अपने शारीर से लगाने की आज्ञा दी | कृष्ण ने खीर को अपने पूरे शारीर से लगा लिया सिर्फ बाएं पैर को छोड़ कर , कृष्ण ने सोचा की ऋषि इस बात पर ध्यान नहीं देंगे | किन्तु ऋषि इस बात से क्रोधित हो गए और श्रीकृष्ण को श्राप दिया की बाएं पैर दुर्लब हो जायेगा | जिससे बाद में श्री कृष्ण के बाएं पैर में तीर लगने से उनकी मृत्यु होती है |