भगवान् भी घिरे कोरोनावायरस के साये में,जो आज तक नहीं हुआ वो अभी होने जा रहा।

भगवान् भी घिरे कोरोनावायरस के साये में,जो आज तक नहीं हुआ वो अभी होने जा रहा।

कोरोनावायरस का असर देश के कई धर्मस्थलों पर पड़ा है। चैत्र नवरात्रि और रामनवमी के मौके पर उत्तर प्रदेश के अयोध्या में लगने वाले मेले में स्थानीय प्रशासन ने लोगों से ना आने की अपील की है। गुरुवार तक 34 मंदिरों को बंद किए जाने की जानकारी आई थी। शुक्रवार को 16 राज्यों में यह आंकड़ा 44 हो गया। शुक्रवार को प्रयागराज में लेटे हनुमान मंदिर और केरल के सबरीमाला मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया। इससे पहले गुरुवार को गुजरात के सोमनाथ और द्वारिका सहित 4 बड़े मंदिर, तमिलनाडु के मदुरै के मीनाक्षी माता सहित 4 मंदिर, दिल्ली के इस्कॉन, मुंबई के महालक्ष्मी, जम्मू के रघुनाथ, सीकर के खाटू श्याम, पुरी के जगन्नाथ, चित्रकूट के कामतानाथ और आंध्र प्रदेश के तिरुपती बालाजी जैसे बड़े मंदिर बंद हुए थे। 

हरिद्वार में रोजाना होने वाली गंगा आरती भी 31 मार्च तक नहीं होगी। इन मंदिरों में लाखों लोग प्रतिदिन जाते हैं। भीड़ को रोकने के मद्देनजर यह मंदिर बंद किए गए हैं। बुधवार को श्री माता वैष्णोदेवी यात्रा भी 31 मार्च तक रोक दी गई। वृंदावन में भगवान रंगनाथ जी की 171 साल पुरानी वार्षिक यात्रा भी स्थगित कर दी गई थी। मुंबई की हाजी अली दरगाह में भी जायरीनों का प्रवेश बंद कर दिया गया है। 

ये मंदिर बंद किए गए

केरलः सबरीमाला मंदिर के 28 मार्च से शुरू होने वाले 10 दिन के सालाना उत्सव में भी दर्शनार्थियों को शामिल नहीं होने दिया जाएगा। 28 मार्च से 8 अप्रैल तक चलने वाले इस उत्सव में दर्शन की अनुमति भी नहीं होगी। 8 अप्रैल को मंदिर में होने वाले आरत महोत्सव में भी भक्तों को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। फिलहाल मंदिर नियमित शेड्यूल के कारण बंद ही है। 

तमिलनाडुः तमिलनाडु के मदुरै में स्थित मीनाक्षी मंदिर को भी कोरोना वायरस से सुरक्षा के चलते 31 मार्च तक बंद किया गया है। कुंभकोणम में स्थित 1000 साल पुराने बृहदेश्वर महादेव मंदिर, धारासुरम् मंदिर, अरियालुर का चोला मंदिर भी इतिहास में पहली बार दर्शनार्थियों के लिए बंद किया गया है। 

गुजरातः गुजरात के सभी प्रमुख मंदिर जिनमें सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, द्वारिका धाम, अंबाजी माता मंदिर और पावागढ़ माता मंदिर के साथ कई मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिए गए हैं।

दिल्ली: कोरोनावायरस के कारण झंडेवालान मंदिर 21 मार्च से अगले आदेश तक बंद रहेगा।

पुरी : ओडिशा के पुरी में स्थित जगन्नाथ मंदिर को 31 मार्च तक के लिए श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया है। यहां भगवान जगन्नाथ के साथ उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा भी विराजित हैं। इस दौरान पुजारी भगवान की पूजा और आरती करते रहेंगे।

दिल्ली : इस्कॉन मंदिर को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। इस्कॉन दिल्ली की वेबसाइट के मुताबिक, यह मंदिर 1995 में बनकर तैयार हुआ था। राधाकृष्ण के इस भव्य मंदिर के निर्माण पर 12 करोड़ रुपए खर्च हुए थे।

जम्मू : जम्मू के ऐतिहासिक रघुनाथ मंदिर को भी अगले आदेश तक आम श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया है। मंदिर में पूजा-पाठ जारी रहेगा। 

खाटू श्याम : राजस्थान के सीकर स्थित खाटू श्याम मंदिर को भी अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। 

चित्रकूट : भगवान राम से जुड़े महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल चित्रकूट के कामतानाथ मंदिर को भी अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। 

हरिद्वार : यहां प्रतिदिन होने वाली गंगा आरती पर 31 मार्च तक रोक लगा दी गई है। 

मुंबई : यहां की मशहूर हाजी अली दरगाह आम जायरीनों के लिए अगले आदेश तक बंद कर दी गई है।

आंध्र प्रदेश: तिरुमला तिरुपति देवस्थानम ने श्रद्धालुओं के लिए बालाजी मंदिर बंद किया। मंदिर में पहले से मौजूद भक्तों की प्रार्थनाओं को पूरा करने की व्यवस्था की जा रही है। हालांकि, सभी अनुष्ठान मंदिर के पुजारियों द्वारा पहले की तरह किया जाएगा।