भोलेनाथ की दुनिया फुल रंगीन तू भी होजा इसमें लीन।तन की जाने मन की जाने, जाने चित्त की चोरी उस महाकाल से क्या छिपावे जिस के हाथ में सबकी डोरी।

भोलेनाथ की दुनिया फुल रंगीन तू भी होजा इसमें लीन।तन की जाने मन की जाने, जाने चित्त की चोरी उस महाकाल से क्या छिपावे जिस के हाथ में सबकी डोरी।

भोलेनाथ की दुनिया फुल रंगीन तू भी होजा इसमें लीन।तन की जाने मन की जाने, जाने चित्त की चोरी उस महाकाल से क्या छिपावे जिस के हाथ में सबकी डोरी।